Sun, January 17
सोलन
24x7 Live TV
Latest Videos
Digital Paper
ऊना : अब खेतों में बर्बाद नहीं होगा पानी,ऊना के नन्हें वैज्ञानिकों ने तैयार किया ऐसा मॉडल,
ऊना जिला के छात्रों ने किसानों के समय की बचत और पानी की बर्बादी को रोकने के लिए एक मॉडल तैयार किया है। यह मॉडल सीबीएसई की राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाली विज्ञान प्रदर्शनी में प्रदर्शित किया जायेगा। इस मॉडल के तहत किसान कहीं से भी सिर्फ एक मोबाईल कॉल के जरिये खेतों में सिंचाई के लिए पानी को ऑन और ऑफ कर सकते है वहीँ एक स्तर पर पहुंचते ही यह पानी खुद भी बंद हो जायेगा। ऊना के जेएस विजडम स्कूल के आठंवीं कक्षा के लक्ष्य और गुरमन प्रीत ने इस मॉडल को तैयार किया है। हाल ही में पंचकूला में आयोजित हुई सीबीएसई की क्षेत्रीय विज्ञान प्रदर्शनी में इस मॉडल को प्रदर्शित किया गया था जिसमें राष्ट्रीय स्तर के लिए इस मॉडल का चयन हुआ है।  
 
जहाँ के ओर पूरा देश पानी की किल्लत से जूझ रहा है वहीँ हिमाचल प्रदेश का जिला ऊना भी इस समस्या से अछूता नहीं है। केंद्र सरकार के आंकड़ों के मुताबिक़ देश के 255 ब्लॉक में पानी का स्तर बहुत ही नीचे जा रहा है इन्ही ब्लॉक में जिला ऊना भी शुमार है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार ऊना जिला में एक दशक में भू-जल स्तर लगभग 2 मीटर नीचे गया है, जो कि बेहद गंभीर स्थिति है। इसका मुख्य कारण पानी की बर्बादी है, ऊना जिला में ही जमीन के नीचे मौजूद पानी से 148 प्रतिशत ज्यादा प्रयोग हो रहा है। इस चिंताजनक स्थिति से निपटने के लिए ऊना के छात्रों का द्वारा तैयार किया गया मॉडल कारगर साबित हो सकता है। ऊना मुख्यालय के जेएस विजडम स्कूल के आठंवीं कक्षा के छात्रों लक्ष्य शर्मा और गुरमन प्रीत कौर ने  खेतों में होने वाली पानी की बर्बादी को रोकने और किसानों के समय की बचत के उद्देश्य से इस मॉडल को तैयार किया है। हाल ही में पंचकूला में आयोजित हुई क्षेत्रीय विज्ञान प्रदर्शनी में ऊना के छात्रों के इस मॉडल को प्रदर्शित किया गया था। पंचकूला में आयोजित प्रतियोगिता में हिमाचल और हरियाणा के करीब 65 स्कूलों से विभिन्न श्रेणियों के 132 मॉडल प्रदर्शित किये गए थे। इसी प्रतियोगिता के तहत ऊना के लक्ष्य और गुरमन प्रीत के मॉडल को सीबीएसई की राष्ट्रीय विज्ञान प्रदर्शनी के लिए चयनित किया गया है। इस मॉडल को बनाने वाले लक्ष्य शर्मा ने बताया कि इस मॉडल में लगाए गए सेंसर की मदद से किसान देश दुनिया के किसी भी कोने में बैठकर मात्र एक फोन कॉल के जरिये खेतों में पानी को चला और बंद कर सकते है। यही नहीं अगर किसान खेतों में छोड़े गए पानी को बंद करना भूल गया है तो एक स्तर पर पहुँचते ही सेंसर की मदद से पानी की मोटर खुद ही बंद हो जाएगी। 

Latest Videos

नाचन विधायक विनोद कुमार ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और शहरी विकास मंत्री का जताया आभार
15-Dec-2020
शाहपुर पुलिस ने नाके के दौरान 120 बोतल देसी शराब पकड़ी
15-Dec-2020
कृषि कानून से किसानों को होगा लाभ
15-Dec-2020
हिम सुरक्षा अभियान के तहत 2 लाख 45 हजार लोगों की हुई स्क्रीनिंग
15-Dec-2020
नाहन : कोहरे ने बढ़ाई लोगों की मुश्किलें
15-Dec-2020
संजीवनी सहारा समिति रोहडू ने टिक्कर पंचायत के गुजांदली गांव में अग्नि पीड़ित परिवारों को राशन सामग्री लेकर की सहायता
15-Dec-2020
बिलासपुर के माकड़ी-मार्कण्ड पंचायत के ग्रामीण मारपीट के मामले को लेकर पुलिस की कार्यवाही से हैं खफा
15-Dec-2020
मंडी : किसानों के समर्थन में किसान संगठनों ने सेरी मंच पर किया प्रदर्शन केंद्र सरकार के कृषि बिल व बिजली बिल को वापिस लेने की उठाई मांग
14-Dec-2020
Sponsored Ads