Fri, February 26
सोलन
24x7 Live TV
Latest Videos
Digital Paper
शिमला : गिरिपार इलाके में बूढ़ी दीवाली शुरू,एक माह तक चलेगा गीत संगीत का सिलसिला।
शिमला : सिरमौर जिले के गिरिपार इलाके को लोक संस्कृति का 'सिरमौर' माना जाता है। इस इलाके में आज भी सदियों पुरानी अनूठी परंपरा का निर्वहन हो रहा है। यहां के अधिकांश गांवों में बूढ़ी दीपावली मनाई जाती है। अबकी बार भी इसे धूमधाम से मनाया जा रहा है। 14 वर्ष का वनवास पूरा होने के बाद सीताजी बहु बनकर घर आई थी तो ग्रामीण इलाकों में नई दीपावली मनाई गई। तब महालक्ष्मी के रूप में उनका अयोध्या में बूढ़ी महिलाओं ने जोरदार स्वागत किया था। लेकिन एक माह बाद अमावस्या के दिन बहुओं ने बूढ़ी महिलाओं को वही मान-सम्मान वापस दिया। उन्होंने सास की आरती उतारी। राम और सीता को जयमाला पहनाई। उसी याद में बूढ़ी दीपावली मनाई जाती है।
 
गिरिपार में  दीपावली का पर्व शुरू हो गया है। पहली रात को छोटी दीपावली और दूसरी रात को बड़ी दिपावली है। तीसरे दिन 'भिउंरी' और चौथे दिन 'जंदूई' रहेगी। भिउंरी में उसी गांव की ब्याही हुई महिलाएं मायके पक्ष में नाच गाना करती हैं। जबकि 'जंदूई' में पुरुष ऐतिहासिक महत्व की लोकगाथाएं गाते हैं। शुरू की दो रातों के दौरान मशाल जलाई गई। इसे सुबह तक जलाए रखा जाएगा। इन्हें स्थानीय भाषा में 'डाव' कहा जाता है।  रात भर लोक वाद्ययंत्रों की थाप पर नाटियों का दौर चलता रहा।

Latest Videos

नाचन विधायक विनोद कुमार ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और शहरी विकास मंत्री का जताया आभार
15-Dec-2020
शाहपुर पुलिस ने नाके के दौरान 120 बोतल देसी शराब पकड़ी
15-Dec-2020
कृषि कानून से किसानों को होगा लाभ
15-Dec-2020
हिम सुरक्षा अभियान के तहत 2 लाख 45 हजार लोगों की हुई स्क्रीनिंग
15-Dec-2020
नाहन : कोहरे ने बढ़ाई लोगों की मुश्किलें
15-Dec-2020
संजीवनी सहारा समिति रोहडू ने टिक्कर पंचायत के गुजांदली गांव में अग्नि पीड़ित परिवारों को राशन सामग्री लेकर की सहायता
15-Dec-2020
बिलासपुर के माकड़ी-मार्कण्ड पंचायत के ग्रामीण मारपीट के मामले को लेकर पुलिस की कार्यवाही से हैं खफा
15-Dec-2020
मंडी : किसानों के समर्थन में किसान संगठनों ने सेरी मंच पर किया प्रदर्शन केंद्र सरकार के कृषि बिल व बिजली बिल को वापिस लेने की उठाई मांग
14-Dec-2020
Sponsored Ads