Fri, November 27
सोलन
24x7 Live TV
Latest Videos
Digital Paper
रविंद्र के लिए मददगार बनी सरकार की पुष्प क्रान्ति योजना

लाइव टाइम्स ब्यूरो 

ऊना : एक ओर जहाँ कई लोग खेतीबाड़ी को घाटे का सौदा समझ छोड़ रहे है वहीँ ऊना के गाँव कुठार कलां के रविंद्र शर्मा ने 13 साल प्राइवेट नौकरी करने के बाद खेतीबाड़ी करने की सोची और सरकार की पुष्प क्रान्ति योजना का लाभ लेकर पॉलीहाउस स्थापित किया। मात्र कुछ दिनों की मेहनत से ही रविंद्र शर्मा दो टन खीरे की खेप बाजार में बेच चुका है। वहीँ रविंद्र युवाओं को भी आधुनिक और संरक्षित खेती के साथ जुड़कर आत्मनिर्भर बनने का संदेश दे रहा है। कहते हैं हिम्मत-ए-मर्दा, मदद-ए-खुदा। ऐसा ही एक उदाहरण है, ऊना जि़ला के कुठार कलां के रहने वाले रविंद्र शर्मा ने पेश किया। 13 वर्ष तक निजी क्षेत्र में नौकरी करने के उपरांत अपने घर लौटे रविंद्र शर्मा ने पॉलीहाउस लगाने का निर्णय लिया। पॉलीहाउस के निर्माण पर कुल 22 लाख रुपए खर्च हुए, जिस पर विभाग ने उन्हें 17 लाख रुपए का अनुदान दिया। पॉलीहाउस लगाने से पूर्व विभाग द्वारा रविंद्र शर्मा को पुणे में संरक्षित खेती का प्रशिक्षण भी प्रदान दिलवाया गया। रविंद्र शर्मा पॉलीहाउस में टपक सिंचाई का इस्तेमाल कर रहे हैं। इससे न सिर्फ पानी की बचत होती है, बल्कि पौधों को आवश्यक्तानुसार, सही समय पर पानी उपलब्ध होता है। पॉलीहाउस स्थापित करने के बाद रविंद्र जरबेरा फूलों की खेती करना चाहते थे, लेकिन कोरोना संकट के मद्देनज़र बागवानी अधिकारियों ने उन्हें खीरे की खेती करने की सलाह दी। उनकी सलाह मानते हुए उन्होंने 2,000 वर्ग मीटर पॉलीहाउस में 5,000 खीरे के पौधे लगाए और अब उनकी हिम्मत, जुनून और मेहनत की फसल खूब लहलहा रही है। रविंद्र की माने तो स्थानीय बाज़ार में रेट कम होने के कारण वो पंजाब सहित देश की अन्य मंडियों में अपने पॉलीहाउस में लगे खीरे बेच रहे है, जिसके उन्हें अच्छे दाम भी मिल रहे हैं। पंजाब में खीरा फिलहाल 40 रुपए प्रति किलो बिक रहा है। पौधे लगाने के 45 दिन बाद अब तक दो टन खीरे का उत्पादन हो चुका है। अगले दो माह में लगभग 25 टन पैदावार होने की उम्मीद है। वहीँ रविंद्र ने नौकरियों के पीछे भागने वाले युवाओं को खेतीबाड़ी से जुड़कर आधुनिक और संरक्षित खेती अपनाने का संदेश दिया है। रविंद्र की माने तो अब खेतीबाड़ी केवल खेतीबाड़ी नहीं है बल्कि इसे एक कृषि उद्योग के तौर पर लेना चाहिए। रविंद्र की माने तो सरकार द्वारा कृषि बागबानी क्षेत्र में विभिन्न योजनाएं चला रही है जिसका लाभ लेकर लोग आत्मनिर्भर बन सकते है और यह स्वरोजगार का अच्छा साधन है।  बागवानी विभाग के उपनिदेशक डॉ. सुभाष चंद ने बताया कि किसानों की सहायता के लिए विभाग कई योजनाएं चला रहा है। पुष्प क्रांति योजना के तहत संरक्षित खेती के लिए उच्च तकनीक वाले पॉलीहाउस लगाने के लिए वित्तीय मदद प्रदान की जाती है। इसी योजना के तहत रविंद्र शर्मा ने भी पॉलीहाउस स्थापित किया है।

Live Events

शिमला लाइव : राजधानी में वर्षा का दौर, धुन्ध के आघोष में डूबी पहाड़ों की रानी शिमला....
स्वारघाट LIVE:--स्वारघाट बाजार में बिना मास्क के घूमने वालों पर पुलिस ने कसा शिकंजा, ...देखें लाईव with विक्रम ठाकुर"...

Latest Videos

बिलासपुर : जल जीवन मिशन में बड़ी गड़बड़ियां सामने आई : राम लाल ठाकुर
26-Nov-2020
देश और प्रदेश की 20 बड़ी खबरें तेज रफ़्तार से..
26-Nov-2020
सोलन : विद्यार्थियों ने धूम धाम से मनाया संविधान दिवस।
26-Nov-2020
चिंतपूर्णी : रविवार को चिंतपूर्णी में प्रशाद,करियाना व अन्य दुकानें रहेंगी बन्द
26-Nov-2020
सुमन सोनी कें नॉनस्टॉप पहाड़ी एलबम जश्न 2020 ने मार्केट में आते ही मचा दी धूम गीतों की रचना करने वाले मशहूर गीतकार हरिकिशन वर्मा ने लिखे गीत
26-Nov-2020
सोलन : कुलदीप शर्मा के बेटे स्वरदीप का गाना "आगाज़ 2020" हुआ रिलीज।…
26-Nov-2020
बिलासपुर : डाईट जुखाला में दो ब्लाइंड प्रशिक्षु दे रहे है डीएलएड परीक्षा…
26-Nov-2020
सुजानपुर : 15 दिसंबर से प्रदेश में शुरू होंगे पुलिस प्रमोशन कोर्स पुलिस विभाग के स्वास्थ्य पर डीजीपी कुंडू चिंतित
26-Nov-2020
Sponsored Ads